Log in


Often I wish

12 Apr 2021 6:23 PM | Anonymous

अक्सर मेरा मन करता है

चाँद छुपा लूँ नयनों में,
अंजुलि में सागर को भर लूँ।
धरती नापूँ दो पग से मैं,
अम्बर को उंगली पे धर लूँ। 
बादल उलझाऊँ बालों में,
तारों को झोली में ले कर, 
कदमों के तले कलियाँ हों बिछी
उन्मुक्त फिरूँ मैं इधर उधर।

अक्सर मेरा मन - - - - -
बाहों में बाँधूं मौसम को,
नदियों को कर लूँ काबू में,
सूरज को आदेश करूँ,
कुछ ऐसा असर हो जादू में।
शीतल बयार बन बह निकलूँ,
दुलराऊँ जल थल और शिखर
स्पर्श स्नेह का बाँटूं तो,
मेरा जीवन जाये और निखर।

अक्सर मेरा मन - - - - -
कभी चिड़ियों सी मैं उड़ान भरूँ,
और छम छम नाचूँ अम्बर पे
उस क्षितिज से जा कर यह पूछूँ,
क्या छुपा हैं तेरे अंतर में।
पुष्पों की सुगंध हो तन मन में,
झरनो की बूँदों को पी लूं
अनुपम संगीत में सराबोर,
दो-चार घड़ी मैं भी जी लूँ।

अक्सर मेरा मन - - - - -
इस प्रकृति की रचना में डूबी,
तन्हाई से रहूँ कोसों दूर,
अपनों सपनों के रंग में रंगी,
आल्हाद से जीवन हो भरपूर।
जीवन की थकन को कम कर दूँ
संतप्त हृदय शीतल कर दूँ ,
मुरली की मीठी तानों से,
कानों में अमृत मैं भर दूँ।

अक्सर मेरा मन - - - - -
हर आँख से आँसू पी जाऊँ,
दुर्बल का सहारा बन जाऊँ,
कोमल मुरझाए चेहरों को,
मुस्कान के रंग से रंग जाऊँ।
सुख शांति की शीतल किरणें हों,
 और प्रेम का उजियारा दमके,
कोई बैर न हो कोई गैर न हो,
रहें आपस में सब हिलमिल के।
यही मेरा तो मन करता है.!

आशा


Often I wish in my mind that:

I steal and hide the moon in my eyes
Fill the ocean in my folded hands
Measure the earth in two steps
Keep the sky on my finger tip
Fill the clouds in my hair
After placing the stars in the pouch of my long cloth
I freely move here and there
On the flower buds scattered  under my steps

Often I wish .... 
Bind the climates in my arms
Control the rivers
I order the sun
Need a magic with the effect that
Like cool breeze I sway
And softly touch the earth, water and mountain peaks
I distribute the touch of love
My life become bright and spangled

Often I wish....
Sometime I fly like the birds
And dance in the sky and ask the horizon
What is hiding inside beyond your limits
The essence of the flowers be in my self and in my thoughts
I drink the drops of the cascade waterfall
Wet and filled by matchless music
I also live fully a few moments

Often I wish....
Sunk in the make of the beauty of nature
Be I miles away from the loneliness,
Existing among my colored dreams and among my people,
The life be of extremes of happiness,
Reduce the tireness of my self,
Cool my tormented heart
With the sweet music of the flute,
Filled the immortal nectar in my ears,

Often I wish...
I absorb the tears of every eye,
I help the poor and weak.
The soft and sad faces,
I fill them with colorful smile,
There be the light of peace and happiness.
And shine of love be all around,
There be no enmity, and no strangeness
All people live with cooperation and love
This is my wish.
Often I wish......

Asha Singh, Teacher, ISW Cultural and Language School

©2020 India Society of Worcester, Massachusetts - All Right Reserved. Contact Us      Privacy Policy

Powered by Wild Apricot Membership Software