Log in


INDEPENDENCE DAY

1 Aug 2022 6:42 PM | Anonymous

स्वतंत्रता दिवस

—————-

वर्षों से गुलामी की बेड़ी में

अपनी भारत माँ जकड़ी थीं ,

दी लहू की आहुति वीरों  नें

ऐसी ज्वालाएँ भड़की थीं

कुर्बानीं उनकी रंग लाई

शुभ आजादी की घड़ी आई ,

जयघोष से गूँज उठा अंबर

रोमॉच से ऑखें भर आईं

संघर्ष था जारी बरसों से

अबविजयने ली है अँगड़ाई,

अंबर पे तिरंगा लहराया

मन में खुशियों की बहार आई।

अपनी धरती अपना ये गगन

उन्मुक्त हो गया अपना चमन,

हम प्रेम के बीज को बोएँगे

महकेंगे घर महकेगी पवन।

आओ हम उन वीरों के

सपनों को अब साकार करें,

उन्नत ललाट रहे भारत का

दुनियाँ में सदा उपकार करें।

काश हमारी मातृभूमि से

दु: का ,छल का पाप कटे,

पुण्य का पनपे बीज यहाँ

खुशहाली की फ़सल कटे।

भारत माता की जय!

वंदे मातरम !

7 .17 . 2022           आशा


"INDEPENDENCE DAY"

Mother India was enslaved,

For many many years,

Our brave warriors shed their blood

For the flame of freedom.

Their sacrifice resulted,

In the auspicious hour of freedom,

The sky echoed with applause,

And eyes were filled with tears of joy.

The struggle of many many years,

Then resulted in success,

The tricolor flag waved in the sky,

Bringing a tide of happiness.

It is now our land and our sky,

Our garden is also freed,

We will sow the seed of love in it,

To fill our home with its fragrance.

Let us remember those brave fighters,

And make their dreams a reality,

Let India hold its head high with pride

Let us help others in this world.

We wish that our dear mother land,

Be free of the sin of deception and sorrow,

Let the seed of virtue grow,

And harvest happiness,

Long live Mother Bharat.

Vande Mataram.

7 .17 .2022.          Asha


©2020 India Society of Worcester, Massachusetts - All Right Reserved. Contact Us      Privacy Policy

Powered by Wild Apricot Membership Software